मंगलवार, 3 मई 2011

अज्ञेय जन्म शती समारोह के चित्र



30 अप्रैल को हमारे विभाग [उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा] में अज्ञेय जन्म शती  समारोह मनाया गया. इस अवसर पर एकदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के साथसाथ अज्ञेय की रचनाओं की पोस्टर प्रदर्शनी भी हम प्राध्यापकों और विद्यार्थियों-शोधार्थियों ने मिलकर लगाई.  श्रीमती चन्दन कुमारी ने इस आयोजन के कुछ चित्र भेजे हैं जो ऊपर प्रदर्शित हैं.

पूरी रिपोर्ट यहाँ पर है.

3 टिप्‍पणियां:

cmpershad ने कहा…

बढिया कार्यक्रम के लिए बधाई॥

डॉ.बी.बालाजी ने कहा…

अज्ञेय को या हिंदी के महान साहित्यकारों को समय-समय पर याद करने का जो तरीका उच्च शिक्षा और शोध संस्थान ने अपनाया है वह अब तक हैदराबाद के किसी भी विश्व विद्यालयों में देखने को नहीं मिला. कम से कम मेरी नजर में तो नहीं आया. साहित्यकार के व्यक्तित्व और कृतित्व पर संगोष्ठी और फिर विषय से जुडी पोस्टरों,पुस्तकों और प्रबंधों की प्रदर्शनी. अद्भुत योजना और आयोजन.
भाषा शिक्षण में जिन चार कौशलों की अध्यापक बार-बार बात करतें हैं, वे चारों यहाँ देखने को मिले.याने कि सुनना,बोलना,पढ़ना और लिखना. हर दृष्टि से संगोष्ठी व प्रदर्शनी का संयोजन बहुत बढ़िया रहा. और, एक ख़ास बात यहाँ देखने में आई है. वह यह कि प्राध्यापकों और विद्यार्थियों में आपसी ताल मेल, मेल-मिलाप और टीम वर्क. किसी भी कार्यक्रम की सफलता उसके भागीदारों के आपसी सहयोग पर निर्भर करती है. दरअसल इसके लिए विभाग के नेतृत्व को बधाई देनी चाहिए.
फोटो अच्छे हैं और सच्चे हैं.

गुर्रमकोंडा नीरजा ने कहा…

रिपोर्ट के माध्यम से अज्ञेय जैसे कालजयी साहित्यकार के बारे में काफी जानकारी प्राप्त हुई. धन्यवाद.